धाम अपने चलो भाई पराए देश क्यों रहना? बाबा जी का संदेश Dham Apne Chalo Bhai

“जय गुरुदेव” महानुभाव इस प्रार्थना के अंतर्गत हम आपके साथ परम संत बाबा जयगुरुदेव जी महाराज द्वारा मंच से गाई गई प्रार्थना, जो एक जीव के लिए संदेश जाता है कि यह देश अपना नहीं है। धाम अपने चलो भाई (Dham Apne Chalo Bhai) पराए देश क्यों रहना? इस प्रकार स्वामी जी महाराज ने लोगों को एक अलर्ट जारी किया की धाम अपने चलो भाई पराए देश क्यों रहना,

काम अपना करो जाई पराए काम नहीं फसना। स्वामी जी महाराज ने अपने अनुयायियों को यह प्रार्थना मंच के माध्यम से गाए गए और हर सत्संगी की जुबां पर यह प्रार्थना अक्षर होती है। तो चलिए इस धाम अपने चलो भाई (Dham Apne Chalo Bhai) लिरिक्स को आप याद कर सकते हैं पढ़ सकते हैं।

Dham Apne Chalo Bhai

परमपिता सतगुरु से प्रार्थना

हाथ जोड़ करके उस परमपिता परमेश्वर, अपनी सतगुरु से प्रार्थना कर सकते हैं कि परमेश्वर हमें इस देश से निकालिए, यह देश हमारा नहीं है। स्वामी जी महाराज ने बताया है, जीव इस संसार में फंस चुका हैं जीव को अपने निज देश जाना चाहिए.

हम सतगुरु से प्रार्थना करते हैं के हैं सतगुरु इस संसार से हमें मुक्ति दीजिए, जन्म मरण से मुक्ति दीजिए इस प्रकार से हम परमपिता परमेश्वर सद्गुरु से प्रार्थना कर सकते हैं तो चलिए इस लिरिक्स Dham Apne Chalo Bhai को हम जानते हैं। जिसमें विशेषकर एक के जनमानस के लिए एक अलर्ट है कि धाम अपने चलो भाई पराए देश क्यों रहना।

काम अपना करो जाए पराई काम नहीं फसना, गुरु का नाम लेकर के संभल चलो यह जगत रंग सब मेला हैं। अपने सतगुरु के माध्यम से यह सफाई करा लो, शरण सतगुरु की जाकर के एक दृढ़ता के साथ पकड़ कर के हम इस देश से निकल सकते हैं।

यह धाम तुम्हारा नहीं

गुरु की दया मिल जाएगी इस बात को अपने चित्र में रखना है। क्योंकि यह उमर खुद ही इस भ्रम जाल में हम अपने घर को भूल चुके हैं। इसलिए सद्गुरु हमें प्रार्थना के माध्यम से आदेश सुनाते हैं कि यह धाम तुम्हारा नहीं है।

उससे मानसरोवर में नहाओ जहाँ सतगुरु विराजे हुए हैं, पसारा है जहाँ पर ना कभी भूख है, ना पियाश, सदा प्रकाश ही प्रकाश है और उस शांति और उस सुख का बखान नहीं किया जा सकता है।

गुरु महाराज कहते हैं इस देश से निकलकर के उस देश से पहुँच सकते हैं। आप अपने सतगुरु को आगे करके, अपनी योगसाधना से गुरु की दया मेहर से हम इस संसार से अपने देश पहुँच सकते हैं। चलिए इस लिरिक्स पढ़ते हैं, वह याद करते हैं।

Dham Apne Chalo Bhai पराए देश क्यों रहना लिरिक्स

धाम अपने चलो भाई, पराये देश क्यों रहना।
काम अपना करो जाई, पराये काम नहिं फँसना॥

नाम गुरु का सम्हालें चल, यही है दाम गठ बँठना।
जगर का रंग सब मैला, धुला ले मान यह कहना॥

भोग संसार कोई दिन के, सहज में त्यागते चलना।
सरन सतगुरु गहो दृढ़ कर, करो यह काज पिल रहना॥

सुरत मन धाम अब घट में, पकड़ धुन ध्यान धर गगना।
फंसे तुम जाल में भारी, बिना इस जुक्ति नहिं खुलना॥

गुरु अब दया कर कहते, मान यह बात चित धरना।
भटक में क्यों उमर खोते, कहीं नहिं ठीक तुम लगना!

Whatsapp GroupJoin
Telegram channelJoin

बसो तुम आय नैनन में, सिम्ट कर एक यह होना।
दुई यह दूर हो जावे, दृष्टि जोत में धरना। ।

श्याम तज सेत को गहना, सुरत को तान धुन सुनना।
बंक के द्वार धंस बैठो, तिरकुटी जाय कर लेना॥

सुन्न चढ़ जा धसो भाई, सुरत न मानसरोवर नहाना।
महासुन चौक अँधियारा, वहाँ से जा गुफा बसना॥

लोक चौथे चलो सज के, गही वाँ जाय धुन बीना।
अलख और अगम के पारा, अजब एक महल दिखलाना।

वहीं सतगुरु से मिलना। हुआ मन आज अति मगना॥
धाम अपने चलो भाई, पराये देश क्यों रहना।

काम अपना करो जाई, पराये काम नहिं फँसना॥

Dham Apne Chalo Bhai Satsang Prathna Baba Jai Guru Dev

परम संत बाबा जयगुरुदेव जी महाराज ने यह प्रार्थना गाते हुए, धाम अपने चलो भाई (Dham Apne Chalo Bhai) पराए देश क्यों रहना? इसके वारे उन्होंने सत्संग में एक जनमानस को ऐसा संदेश दिया जो आप नीचे दिए गए वीडियो के माध्यम से आप सुन सकते हैं। देख सकते हैं। बाबा जी ने क्या कहा जानते हैं इस वीडियो में, साथ में आप चैनल को भी सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Dham Apne Chalo Bhai Paraye Dham Kyo Rahna

सुझाव: Chalo Bhai

Chalo Bhai पराए देश नहीं रहना, वास्तव में यह अपना देश नहीं है महात्मा यही कहते हैं कि, चलो भाई यह देश आपका नहीं है यहां आपका कुछ भी हाथ लगने वाला नहीं है| सब कुछ ही यही रह जाएगा, देखते रह जाएंगे, और चले जाएंगे| महात्माओं ने कहा है कि जीते जी इस शरीर से कुछ काम कर लो, और अपने धाम चलो (Dham) महात्मा सत्संग के माध्यम से इशारे में सब कुछ कहते हैं| chalo chalo bhai चलो धाम अपने चलो भाई (Dham apne chalo bhai) महात्माओं KA इशारा बहुत बड़ी सीख प्रदान करता है|

पोस्ट निष्कर्ष

महानुभाव आपने ऊपर दिए गए कंटेंट के माध्यम से स्वामी जी महाराज के द्वारा गाए जाने वाली प्रार्थना Dham Apne Chalo Bhai हम सब को एक संदेश देते हुए उन्होंने कहा कि धाम अपने चलो भाई पराए देश क्यों रहना। इस प्रकार से स्वामी जी महाराज ने हम सब को यह संदेश सुनाया। यह कंटेंट के माध्यम से और हम सब इस प्रार्थना को गाते हैं। आशा है आपको ऊपर दी गई प्रार्थना जरूर अच्छी लगी होगी। गुरु महाराज का आशीर्वाद सभी को प्राप्त हो जय गुरुदेव।

Or Prathna Pade:-

Scroll to Top