Satsang

कर्म और अकर्म क्या साधक का कर्म क्या होना चाहिए?

कर्म अकर्म क्या है? एक साधक को क्या कर्म करना चाहिए? ताकि साधक की साधना पॉजिटिव रहे और गुरु भक्ति का आशीर्वाद मिले। साधक को साधना करते समय किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? कौन से कार्य करना चाहिए और कौन से कार्य नहीं करना चाहिए. आदि सत्संग की अनमोल बातों को हम आपके साथ …

कर्म और अकर्म क्या साधक का कर्म क्या होना चाहिए? Read More »

साधक के क्या-क्या कर्तब्य होना चाहिये?

जय गुरुदेव सत्संगी के क्या-क्या कर्तव्य होना चाहिए? एक साधक को किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? ताकि उसकी साधना सक्रिय रहे और गुरु की कृपा हमेशा बरसती रहे । इन नीचे दिए गए लाइनों में परम संत बाबा जयगुरुदेव जी द्वारा सुनाए गए, आध्यात्मिक सत्संग के सार परमार्थी वचन संग्रह नामक पुस्तक से महत्त्वपूर्ण …

साधक के क्या-क्या कर्तब्य होना चाहिये? Read More »

आत्मा सुख क्या और साधक को सुख अनुभूति कैसे प्राप्त होती है?

आत्मा सुख किसे कहते हैं? आत्मा (Aatma) सुख की अनुभूति कैसे प्राप्त करें? कैसे हमारे अंदर शांति सुकून और आत्मा को सुख प्राप्त हो, यह अनुभूति हम कैसे कर सकते हैं? आदि तमाम प्रकार की जानकारी बाबा जयगुरुदेव जी के द्वारा पूर्ण सारांश दिया गया है।आप इन सत्संग लाइनों को पूरा पढ़ें, आपको आत्मा सुख …

आत्मा सुख क्या और साधक को सुख अनुभूति कैसे प्राप्त होती है? Read More »

साधक के प्रति गुरु के वचन कैसे और क्या?

महानुभाव जय गुरुदेव, साधक के प्रति गुरु के वचन, गुरु और शिष्य का क्या रिश्ता है? गुरु और शिष्य का सम्बंध, क्या मानव जीवन में गुरु का महत्त्व है। गुरु शिष्य का सम्बंध कैसा होना चाहिए? क्या गुरु बनाना ज़रूरी है। आदि ऐसी बातें हैं जिन्हें परम संत बाबा जयगुरुदेव जी महाराज ने अपनी सत्संग …

साधक के प्रति गुरु के वचन कैसे और क्या? Read More »

सत्संग के एक-एक वचनों को बारीकी से सुनो

सत्संग के बचनो को सुनो (Satsang ke bachno ko suno) , सत्संग में 1-1 वचनों को बड़ी बारीकी से सुनो, स्वामी जी ने कहा है अभी बताने वाला है, समझाने वाला है, कहने वाला है, जब चला जाऊंगा तो भजन किया नहीं किया, कौन बताएगा? इसलिए सत्संग में आते हो तो एक-एक वचनों को बड़ी …

सत्संग के एक-एक वचनों को बारीकी से सुनो Read More »

मानव धर्म और कर्म की स्थापना | जीव आत्मा को जगाने के लिए

जय गुरुदेव, मानव धर्म और कर्म की स्थापना, जय गुरुदेव मानव धर्म और कर्म की स्थापना। जब सृष्टि में उथल-पुथल का समय आता है तो लोग अत्याचारी पापाचारी हो जाते हैं तब भूमंडल पर फकीरों महात्मा अवतरित होकर मानव धर्म कर्म की स्थापना करते हैं। महानुभाव इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें, यह सत्संग पुस्तिका के …

मानव धर्म और कर्म की स्थापना | जीव आत्मा को जगाने के लिए Read More »

सृष्टि की उत्पत्ति कब और कैसे हुई? रचयिता कौन हैं?

जय गुरुदेव, समस्त महानुभाव इस आर्टिकल के माध्यम से आप जानेंगे, सृष्टि की उत्पत्ति (Creation origin) इसके रचयिता और सृष्टि का इतिहास साथ में, इंसान की सतयुग में उम्र क्या? और कलयुग और द्वापर में क्या? आदि बातों को इस आर्टिकल में आपके साथ सांझा कर रहा हूँ। जो परम संत बाबा जयगुरुदेव जी ने …

सृष्टि की उत्पत्ति कब और कैसे हुई? रचयिता कौन हैं? Read More »

अध्यात्मिक विद्यालय क्या है? बाबा जयगुरुदेव सत्संग

महानुभाव जयगुरुदेव, इस आर्टिकल में आप पढ़ेंगे परम संत बाबा जयगुरुदेव जी महाराज द्वारा दिए गए सत्संग वाणी और उन्होंने आध्यात्मिक विद्यालय के बारे में क्या कहा? हम जीते जी भगवान को कैसे प्राप्त करें? कुछ महत्त्वपूर्ण बिंदुओं को दर्शाया है। अब इस आर्टिकल को पूरा पढ़े, जयगुरुदेव अध्यात्मिक विद्यालय क्या है? (What is a …

अध्यात्मिक विद्यालय क्या है? बाबा जयगुरुदेव सत्संग Read More »

इंसान की तीसरी आँख का रहस्य। प्रेत योनियों का विधान

जय गुरुदेव, इंसान की तीसरी आँख का रहस्य बाबा जयगुरुदेव उन्होंने सत्संग सुनाते हुए बताया है कि इंसान की तीसरी आँख भी होती है। तीसरा नाक भी होती है। तीसरी कान भी होता है। बाबा जी ने अपने करोड़ों अनुयायियों के साथ सत्संग में यह बात कही, आज भी इंसान अपनी तीसरी आँख खोल सकता …

इंसान की तीसरी आँख का रहस्य। प्रेत योनियों का विधान Read More »

गुरु पूर्णिमा त्रिवेणी संगम सत्संग कार्यक्रम सन 1996 बाबा जयगुरुदेव

जय गुरुदेव, इलाहाबाद की धरती पर त्रिवेणी संगम बाबा जयगुरुदेव जी ने पूर्व में जो सत्संग दिया, उसके कुछ महत्त्वपूर्ण अंश आपके साथ साझा किए जा रहे हैं। गुरु पूर्णिमा त्रिवेणी संगम पर सत्संग कार्यक्रम, पूरे कार्यक्रम की मैदान व्यवस्था, बाबा जयगुरुदेव के सत्संग वाणी को पूरा पढ़ें, चलिए शुरू करें। जय गुरुदेव गुरु पूर्णिमा …

गुरु पूर्णिमा त्रिवेणी संगम सत्संग कार्यक्रम सन 1996 बाबा जयगुरुदेव Read More »

Scroll to Top